Text selection Lock by Hindi Blog Tips

सोमवार, 28 जनवरी 2013

एक रात की बात

एक रात की बात हैँ आँसमा के चाँद को शुकून से देख रहा था
बस देख रहा था कि चाँद को और चाँदनी रात हो गयी
और एक रात वह थी जो चाँद को देख रहा था पर शुकून नही था
आँखोँ मेँ आसुँ का एक कतरा भी नही था क्योकि दिल जो पहली वार टुटा उसके आँसु वह रहे थे
आँखोँ के आँसु आँखोँ मेँ दफन हो चुकी थी , हल्की ठंड हवाओँ के झोँके ऐँसा लग रहा था रुलाने के लिए मजबुर कर रही हैँ बेचार वह तुफान क्या जानता था कि जितनी तेज वह बह रहा हैँ उससे कहीँ तेज तुफान तो मेरे अंदर बह रहा था
थपेँडे थपेँडे पे थपेँडे हवा कि वह रहे थे धुलकन और मिट्टी के थपेँडे कह रही थी ऐँ राही तु लौट जा इतनी रात को तुफानी रात मेँ कहा चला जा रहा हैँ , लौट जा अपने घर ,, अपनी कोइ सुध ना थी तो हवा कि क्या सुनता बस कदम बढेँ जा रहे थेँ ,, बस कदम बढेँ जा रहेँ थे ,
कहाँ जाना हैँ ! कुछ पता नही
बस कदम बढेँ जा रहे जा रहे थे
बढनेँ के सिवा और भी कदम कर क्या सकतेँ थे , मंजिल पहले ही गुम हो गया था ,, अभी अभी दिखाई दे रहा था और अभी अभी मंजिल के टुकडे टुकडेँ दिल के टुकडोँ के साथ ढह चुका था ,,केवल एक शब्द से " कौन लगती हुँ ..मैँ तुम्हारी मुझे तुमसे कोइ मतलब नही ..कोइ वासता नही ...कोइ नाता हमारेँ बिच नही ! चले जाओ और दुबारा मुडकर इधर ना देखना " बस कानोँ मेँ वही शब्द गुँज रहे थे बार बार रिप्ले हो रहा था ।
ऐँसा कैसे कोइ कैसे कह सकता हैँ जिसके लिए कल तक उसका सबकुछ था आज कैसे बेगाना हो गया जो अपनी मंजिल मुझे मान रही थी जिसके सपनोँ का राजकुमार मैँ था जिसके हर दिन कि शुरुआत मुझे देखकर और हर रात मुझे चाँद जैसा देखकर गुजरती रही आज वो चाँदनी के लिए कैसे बेगाना हो सकता था !! तुफानी रात अपने चरम सिमा पर था और हमे कुछ खबर ना थी बस कदम अंधेरी रात मेँ चल रहे थे तभी अचानक एक काँटा चुभा जो अंदर तक धंस चुकी थी बस एक उफ की आवाज निकली आज भी याद था वह दिन जब पहली वार बगीचेँ मेँ काँटा चुभा था ! घर मेँ सभी परेसान थे मैँ दर्द से बेहाल था और एक आज का दिन था कि काँटे चुभेँ पर दर्द नही हुआ
पहले से क्या कम दर्द था जो ये काँटा बढाने आ गया दो कदम और चला था कि अचेत हो गिर गया ..अब कोइ मकसद ना ...कोइ मंजिल ना थी ....बस वही पडे पडे वह चाँद देख रहा था ..लग रहा था जैसे सबकुछ खत्म हो गया
कितने प्यारे यही चाँद लग रहा था जब मैने चाँदनी को देखा था ,,कितना अच्छा लग रहा था जब चाँदनी के साथ बैढकर चाँद को देखता था ..प्यार भी क्या चिज होती हैँ कितने सुहाने अनुभव देकर इतना बडा दर्द का भाग दे देता हैँ ..ऐँसे मे क्या कहा जायेँ
दुःख तो केवल बात का था कि काश कि मैँ उस रात ना देखता ....
काश कि उससे मुलाकात न होती
अब सबकुछ बिखर चुका था जिसे एक पल मुझे देखे चैँन नही आती थी आज उसने ऐसे मुह मोड लिया जैसे कि उसके लिए एक खिलौना भर था जब मन गया छोड दिया
कोइ उम्मीद नही दुबारा उठा और चल दिया हवाओँ के झोकेँ से गेँहु की दुधभरी बालिया लहलहा रही थी अभी दो कदम चला ना था कि फिर काँटोँ के गुच्छोँ पर पैर पडा और ऐसा लगा जैसे पुरा शरीर पानी बन गया ! वही मिट्टी की पगडंडी के राह पर दुबारा गिर गया .. काँटोँ से केवल इतनी शिकायत थी कि यह उस समय क्योँ नही चुभा जब चाँदनी से मिलने बेतहासा बेपरवाह चले जा रहा था ..ये तब क्योँ नही चुभा जब गुलाब का फुल लेकर अपने प्यार का इजहार करने जा रहा था ..
जेब से वही फुल निकालकर देखने लगा जिसे अपने प्यार का इजहार के तौर पर किसी को दिया आज वही फुल उसने मुह पे मार दि ...कितना प्यार किया था ...अपने आप से भी ज्यादा
फिर क्या कमी रह गयी थी जो इस नाजुक दिल को तोड दिया ..उसके लिए महज यह एक खेल रहा हो लेकिन मेरे लिए मेरी दुनिया थी ..उस सुखे गुलाब के र्सुख पत्तियाँ को देखकर एक बार फिर आँख भर आई और उस सुनसान गेँहु के खेतोँ के बिच कि पगडंडी पर से बहकर छोटे छोटे धास मेँ जाने लगी ..
दिल फिर से फफक फफक कर रोने लगा आँखोँ से बस आसुँ के बुंद के जगह चाँदनी के प्यार के अश्क धार बनकर बहने लगी
अपने आप को मिटा देना देना चाहता था ..अपने नाम इस दुनिया से खत्म कर देना चाहता था ..
खुब आँखो से आँसु बहे जी भरकर रोया ...सारे गम को आसुँ की नदिया से उसमेँ डुबा देना चाहता था ..मेरे मोहब्बत का शैलाब बडा था इसलिए गम भी बहुत बडा था इसे डुबा पाना संभव ना था लगभग रात का तीसरा पहर चल रहा था पास ही गीदड की रोने की आवाज लगी जैसे मेरे दुःख उसे भी सहन ना हो रहा हैँ मेरे गम को साथ मेँ रोकर बाँटना चाह रहा हो गम के आँसु रुकने का नाम न ले रहा था आखिरकार एक फैसला किया इस दुनिया को छोड देने का और पास मे एक बडी सुखी खाही थी जिसमे गिरकर कोइ भी इंसान जिँदा नही रहता .. एक पेड पर चढा ,, कुदने से पहले एक बार चाँद को देखा और आँखे बंद करके छलांग लगा दी ।

उसके बाद क्या हुआ कुछ पता नही

चाँद ढल गया और सुरज के किरनोँ ने आँख खोलने पर मजबुर कर दिया

मैने देखा मेरे कमर और हाथ लताओँ मेँ फंसा हैँ मैँ लटका हुँ खाही के पत्थर छुने को कुछ इंच बाकी रहे थे
मुझे जीवनदान इन लताओँ ने दिया उपर देखा तो लगा यह उसी पेड की करामत हैँ और वह मुझे देखकर मुस्कुरा रहा हैँ
उसे देखकर मुझे भी मुस्कुराहट आ गयी मेरे अंदर एक नयी शक्ति का संचार हुआ ।
कल रात क्या हुआ सब सपना लग रहा था सारेँ गम मिट गये एक नये आशा लिये चल दिया कि अब कुछ भी हो जाऐँ किसी से
मोहब्बत नही करना हैँ जिँदा रहकर नही मरना हैँ
उस दिन से मेरा हर दिन अच्छा गया क्योँकि अब कोइ कमी न थी अब कोइ गम ना था
और
जिँदगी भी कम ना था ।

........ वरुण कुमार

12 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. हौसला अफजाई के लिए शुक्रिया ..आपके दोनो पोस्ट पढे बहुत अच्छे हैँ ।

      हटाएं
  2. किशोर प्रेम का प्रस्फुटन है रचना में एक रास्ता भी खुलता है .बाहर निकलने का प्रेम के स्वांग से .शुक्रिया आपकी ताज़ा टिपण्णी का .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद आपने कहानी पढी और अपनी राय दी ।

      हटाएं
  3. वरुण भाई आपकी कहानी तो बहुत ही भावपूर्ण है,शुरू से अंत तक एक डोर में बंधे हुए है।इस कहानी से सबक लेना चाहिए की यदि मुहब्बत नाकाम भी हो गया तो जीने की आश नहीं छोडनी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी , विल्कुल यही समझाने की कोशिश इस कहानी मेँ किया गया हैँ ।

      हटाएं
  4. वरून जी कहानी बहुत अच्छी थी ऐसा लग रहा था कि कहानी का मुख्य पाञ मै ही हु

    उत्तर देंहटाएं
  5. सबसे पहले ब्लाँगिँग की दुनिया मेँ आपका बहुत बहुत हार्दिक अभिनंदन और स्वागत हैँ
    मुझे खुशी हैँ फेसबुक से ब्लाँग तक का सफर आपके लिए थोडा मुश्किल था पर आपने पुरा कर लिया
    और कहानी पर अपनी राय देने के लिए धन्यवाद यह कहानी एक तडपता आशिक नोवल जिसे लिख रहा हुँ उसका एक छोटा सा सारांश हैँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहानी का साराशँ इतना रोचक है तो कहानी कैसी होगी ? मै आपकी कहानी के प्रकाशन का इन्तजार करूगा ।शुभ कामनाये ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वरून जी कहानी बहुत अच्छी है । सबको रिझाने का अच्छा प्रयास है । आपने शानदार प्रस्तुती की है ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका ब्लाँग पर बहुत बहुत स्वागत है और अपने विचार प्रस्तुत करने के लिए शुक्रिया इसकी प्रस्तुती किसलिए किया गया ये आप ब्लाँग का वर्णन पढकर समझ सकतेँ हैँ ।
      मन में उठने वाली झोंका और
      लहरों तथा दिल में उठने वाले उमंगें और
      तरंगे के द्वारा यहाँ सच्चे प्यार एहसास
      और बेहद संवेदनशील भावनाओं को खुछ
      शब्दों में ढालने की एक कोशिश ।

      हटाएं